अपनी दुनिया को कैसे बदले

एक आदमी मेले में गुब्बारे बेचकर अपनी रोजी रोटी कमाता था। उसके पास लाल , हरे , नील , पीले चार रंग के गुब्बारे थे। जब कभी भी उसके गुब्बारे बिकना काम हो जाते वह हीलियम गैस से भरा एक गुब्बारा हवा में छोड़ देता। बच्चे उसे उड़ता देखकर, वैसा ही उड़ने वाला गुब्बार पाने के लिए मचल जाते। और बच्चे उससे वैसा ही गुब्बारा खरीदते। इसतरह करने से उसकी बिक्री बढ़ जाती। और फिर दिन भर यही सिलसिला चलता रहता। एक दिन वह आदमी बाजार में खड़ा गुब्बारे बेच रहा था। 

अचानक उसे लगा की कोई पीछे से उसके कपडे खीच रहा है। उसने मुड़ कर देखा तो एक बच्ची थी जो उसके कपडे खीच रही थी । उस बच्ची ने गुब्बारे वाले से पूछा- जिस तरह आपके ये चरो रंग के गुब्बारे उड़ते है वैसे ही अगर आप कला गुब्बारा छोड़ोगे तो वह भी उड़ेगा? बच्ची की यह बात सुन गुब्बारे वाले ने जवाब दिया बेटी गुब्बारा आपने रंग की वजह से नहीं उड़ता। बल्कि उसके अंदर क्या है, इस वजह से वह उड़ता है। 

यही बात दुनिया में मौजूद हर इंसान पर लागु होती है। और वही चीज़ आपको ऊपर ले जाती है। और वह है आपका; नजरिया मेरे खयाल से जो कामियाब है या कामियाब हो रहे है वो केवल उनके नजरिये की बदौलत है। नजरिया, चीजो को देखने का, अवसर को पहचाने का, मुसीबतो से लड़ने का , हालातो से जूझने का,आने वाली तकलीफो को पहचाने का और इन सब से किस तरह मुकाबले में वह आसानी से जीत हासिल करे ले। 

और इसका उलट जो कामियाब नहीं है वह इन सब से कोसो दूर है और सिर्फ उसे मुश्किले ही नजर आती है , उसे कभी कोई मुसीबतो से बहार निकलने का रास्ता ही नजर नहीं आता। कुल मिलकर आप अगर जिंदगी में कुछ पाना चाहते हो, कुछ हासिल करना चाहते हो तो सिर्फ अपना नजरिया बदलकर, सब कुछ बदल सकते हो।

Note- कोई भी Motivational story आप को सिर्फ बता सकती है की क्या करना है , कैसे करना है , क्यों करना है और क्या फायदा होगा लेकिन उसे जीवन में उतारना आपके आपने हाथ में है और जब तक आप इसे जीवन में नहीं उतरोगे तब तक इसका कोई फायदा नहीं और इसे पढ़ना व्यर्थ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *